इजरायल ने मार गिराया हमास का टॉप कमांडर सालेह अल औरोरी। सालेह ने पिछले साल कहा था कि….

हमास नेता सालेह अल अरौरी को अपनी मौत के बारे में पता था. इसका खुलासा सालेह की बेटी ने किया है. सालेह अल अरौरी की बेटी ने बताया कि, पिछले साल हज यात्रा के दौरान अरौरी ने कहा था कि मेरी फोटो अभी रख लो अगले साल शायद मैं जिंदा ना रहूं।

हज यात्रा के समय अरौरी की कही ये बात इस बात बताती है कि उसे हमले का अंजाम पता था. अरौरी हमास के टॉप कमांडरों में एक था और इजराइली सेना की हिट लिस्ट में शामिल था. अरौरी ने वेस्ट बैंक में हमास का नेतृत्व भी किया था. इजराइली हमले में अब तक जितने कमांडर मारे गए हैं, उनमें अरौली सबसे बड़ा कमांडर था. काफी दिनों से इजराइली सेना को इसकी तलाश थी. अरौली 15 साल तक इजराइल की जेल में बंद रहा था।

पहले 3 बार इजरायली हमले से बच निकला था अल-घंडौर

वाशिंगटन स्थित एक वकालत समूह काउंटर एक्सट्रीमिज्म प्रोजेक्ट के अनुसार वर्ष 2002 तक इजरायल ने उसे मारने का पहले भी 3 बार प्रयास किया था। मगर हर बार वह इजरायली हमले से बच निकला था। मगर अब चौथी बार इजरायली सेना के हमले में अल-घंडौर के मारे जाने की पुष्टि हमास आतंकियों ने कर दी है। 

पीएम नेतन्याहू ने अरौरी को खत्म करने की खाई थी कसम

अल-अरौरी हमास के पोलित ब्यूरो में एक वरिष्ठ अधिकारी थे। हमास के अंदर सालेह को सैन्य मामलों में मजबूत पकड़ वाला माना जाता था। इजरायली पीएम बेंजामिन नेतन्याहू न7 अक्टूबर को इजरायल पर हुए हमले के पीछे सालेह का हाथ मान रहे थे। नेतन्याहू ने सालेह को मारने की भी कसम खाई थी। वहीं दूसरी ओर आतंकी संगठन हमास के टॉप कमांडर पर यूएस ने 40 करोड़ रुपए से अधिक का ईनाम घोषित किया था।

इजराइल ने अरौरी को मार गिराया

इजराइल ने हिजबुल्लाह के गढ़ में घुसकर अरौरी को मार गिराया. हमास का यह कमांडर इजराइल के लिए बहुत बड़ा सिरदर्द था. इजराइली सेना ने दक्षिण बेरूत में हवाई हमले को कर अरौरी को मौत के घाट उतार दिया. अरौरी लेबनान में निर्वासन की जिंदगी बिता रहा था. अमेरिका ने साल 2015 में अरौरी को वैश्विक आतंकी घोषित किया था. इसके साथ ही उस पर 5 मिलियन डॉलर का इनाम रखा था.

जंग में हमास के 8500 से अधिक लड़ाके ढेर

बता दें कि सात अक्टूबर के जंग के बाद से इजराइली सेना ने गाजा में घुसकर भीषण तबाही मचाई. हमास के ठिकानों को पूरी तरह तहस नहस कर दिया. जंग के शुरू होने के बाद से अब तक इजराइल ने हमास के करीब 8500 से अधिक लड़ाकों को मार गिराया गया है. इसमें हमास के कई टॉप कमांडर शामिल हैं. हमास से बदला लेने के लिए इजराइल ने गाजा में ग्राउंड ऑपरेशन चलाया.

इजरायल पर भड़के लेबनानी पीएम

लेबनान के प्रधानमंत्री नजीब मिकाती ने कहा कि अल-अरौरी की हत्या का उद्देश्य देश के दक्षिण में जारी रहे रोज-रोज हमलों के बीच लेबनान को टकराव के एक नए चरण में खींचना है। मिकाती ने सीमा पर तनाव बढ़ाने और हमले की पहल करने को लेकर इजरायल को चेतावनी दी। उन्होंने कहा कि इजरायल गाजा पट्टी में अपनी विफलताओं को छिपाने के लिए दक्षिणी सीमा पर तनाव बढ़ा रहा है। उन्होंने इजरायल के नेताओं को भी आग से न खेलने की चेतावनी दी।

गाजा में 22 हजार से ज्यादा मौतें

बता दें कि गाजा में करीब 89 दिनों से जंग जारी है. गाजा में अब तक 22 हजार से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है. इनमें 8000 से ज्यादा बच्चे और 6200 से ज्यादा महिलाएं शामिल हैं. हमास के 7 अक्टूबर के हमलों के बाद गाजा में इजराइल हमले जारी हैं. हमास के 7 अक्टूबर के हमले में इजराइल में करीब 1200 से ज्यादा लोगों की मौत हो गई थी.

One comment

  1. I do believe all the ideas youve presented for your post They are really convincing and will certainly work Nonetheless the posts are too short for novices May just you please lengthen them a little from subsequent time Thanks for the post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *