Puranpoli Ghar Success Story: साइकिल पर पानीपुरी बेचने वले ने खड़ी कर दी करोड़ों की कंपनी

“सपने वो होते हैं जो हमारी नींद उड़ा देते है” यह कहावत कार्नाटक के एक युवा उद्यमिता के जीवन को सराहनीय बनाती है, जिन्होंने एक छोटे से सपने को देख कर अपने कारोबार को करोड़ों रुपए की कंपनी बना दी है। हां, हम बात कर रहे हैं Puran Poli Ghar के मालिक के.आर. भास्कर की कहानी की जो किसान की शानदार सफलता का प्रतीक बन चुके हैं।

यहां उनकी पुराणपोली घर सक्सेस स्टोरी है:

1. शुरुआत: क. आर. भास्कर का जन्म कर्नाटक राज्य के एक गाँव में हुआ था। वे एक गरीब परिवार से थे, लेकिन उनमें अपने सपनों को पूरा करने का जज्बा था। उनकी मेहनत और संघर्ष ने उन्हें उस रास्ते पर ले जाया, जहां से उन्होंने अपने कारोबार की शुरुआत की।

2. साइकिल पर पुराणपोली: अपने शुरुआती दिनों में, भास्कर ने साइकिल पर पुराणपोली बेचने का काम किया। वे अपने गाँव और आस-पास के क्षेत्रों में घूमते हुए लोगों को स्वादिष्ट पुराणपोली प्रदान करते थे। इससे उन्हें आर्थिक सहारा मिलता और उनका बिजनेस धीरे-धीरे बढ़ता गया।

3. रसोई कला के क्षेत्र में पहली कदम: एक दिन, भास्कर को एक कुकिंग शो के लिए सिलेक्ट किया गया। यह उनके जीवन का एक महत्वपूर्ण पल था, जिसने उन्हें लोकप्रियता प्रदान की और उन्हें लोकल क्षेत्र में मशहूर बना दिया।

4. Puran Poli Ghar की शुरुआत: इसके बाद, भास्कर ने Puran Poli Ghar की शुरुआत की, जिसमें उन्होंने लोगों को बेहतरीन और स्वादिष्ट पुराणपोली प्रदान करने का कारोबार बनाया।

5. करोड़ों की कंपनी बनाना: उनकी मेहनत और उनके पुराणपोली के विशेष रेसिपी ने कारोबार को कई गुना बढ़ा दिया और उन्हें एक करोड़ों की कंपनी बना दिया। Puran Poli Ghar के कई आउटलेट्स आज भी खुले हैं, और लोग उनकी यहां से बनी पुराणपोली का आनंद ले रहे हैं।

6. सफलता की कहानी का संदेश: इस सफलता की कहानी से हमें यह सिखने को मिलता है कि कभी भी और कहीं भी सफलता को प्राप्त करने के लिए मेहनत, आत्म-नियंत्रण, और आत्मविश्वास की आवश्यकता होती है। भास्कर ने ग़रीबी के बावजूद अपने सपनों की पूर्ति के लिए नहीं हार मानी और आज वे एक सफल उद्यमिता के रूप में अपनी जगह बना चुके हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *