घर में किस चीज का दीपक जलाना चाहिए?

घर को आशीर्वाद, सुख, और समृद्धि से भरने के लिए हिन्दू धर्म में दीपक जलाना एक प्रमुख पारंपरिक रियलिटी है। यह न केवल धार्मिक अर्थ में महत्वपूर्ण है, बल्कि वास्तु शास्त्र के अनुसार यह आपके घर के ऊर्जा को भी सुधार सकता है। इस लेख में हम जानेंगे कि घर में किस चीज का दीपक जलाना चाहिए और इसके पीछे का धार्मिक और वास्तु शास्त्रिक महत्व क्या है।

घर में दीपक का महत्व

दीपक का जलाना हिन्दू संस्कृति में गहरे धार्मिक और आध्यात्मिक महत्व का प्रतीक है। यह सूर्य की आराधना का एक हिस्सा भी है, जिससे घर को पौराणिक रूप से आशीर्वाद मिलता है।

विभिन्न दीपक और उनका महत्व

1. घी का दीपक

शिव पुराण में बताया गया है कि घर में हमेशा घी का दीपक जलाना चाहिए। इससे घर में सुख समृद्धि आती है और शादी के लिए भी यह महत्वपूर्ण माना जाता है।

2. तेल के दीपक

वास्तु शास्त्र के हिसाब से, कुछ परिस्थितियों में सरसों, तिल, और चमेली के तेल के दीपक को भी जलाया जा सकता है। इन तेलों को जलाने से नकारात्मक ऊर्जा का समाप्त होता है और सकारात्मक ऊर्जा बढ़ती है।

दीपक का सही स्थान और दिशा

नित्य कर्म पूजा प्रकाश पुस्तक के अनुसार, दीपक को हमेशा अपने बाएं हाथ की ओर जलाना चाहिए। लेकिन यदि दीपक तेल का है, तो उसे दाएं हाथ क्यों रखना चाहिए। जब भी पूजा घर में दीपक जलाए तो हमेशा दीपक को भगवान के प्रतिमा के सामने रखना चाहिए।

दीपक जलाने के नियम और लाभ

  1. अगर कोई उपासक देवी को खुश करना चाहता है और अपनी आर्थिक स्थिति मजबूत करना चाहता है, तो उसे घी का दीपक जलाना चाहिए।
  2. अगर किसी को शनि दोष या साढ़ेसाती का प्रभाव है, तो उसे सरसों के तेल का दीपक जलाना चाहिए।
  3. अगर कोई व्यक्ति बजरंगबली हनुमान जी को प्रसन्न करना चाहता है, तो उसे चमेली के तेल से बने हुए तीन कोणों वाला दीपक जलाना चाहिए।
  4. अगर कोई व्यक्ति सूर्य देव या काल भैरव को प्रसन्न करना चाहता है, तो उसे सरसों के तेल का दीपक जलाना चाहिए।
  5. अगर किसी की कुंडली में राहु और केतु का दोष है, तो उसे अलसी के तेल का दीपक जलाने से लाभ होता है और राहु केतु शांत होते हैं।

बेलपत्र के पेड़ के नीचे दीपक कब लगाना चाहिए

बेलपत्र भगवान शिव के लिए बहुत ही प्रिय हैं, इसलिए बेलपत्र के पेड़ के नीचे दीपक जलाने से मानसिक और आर्थिक लाभ होता है। बेलपत्र के पेड़ के नीचे दीपक प्रतिदिन शाम के समय ही जलाना चाहिए।

समापन

जो भक्त भगवान शिव को प्रसन्न करना चाहते हैं, कोई भगवान शिव को बेलपत्र चढ़ाते हैं। बेलपत्र के 3 पत्ते त्रिदेव का प्रतीक है। शाम के समय बेलपत्र की पूजा करनी चाहिए तथा उन्हीं का दीपक जलाना चाहिए। बहुत से लोगों को यह शंका होती है कि घर में बेलपत्र का पेड़ लगाना चाहिए या नहीं, तो वह अपनी शंका को दूर करें क्योंकि बेलपत्र एक पवित्र पर है और इसे घर में लगाया जा सकता है। अब बात आती है की बेलपत्र को किस दिन घर में लगाना चाहिए, इसके लिए सोमवार सबसे उचित दिन है। अगर कोई व्यक्ति अपने घर में बेलपत्र का पेड़ लगाना चाहता है तो वह सोमवार के दिन अपने घर में बेलपत्र के पेड़ को लगा सकता है।

तिल के तेल का दीपक किस दिन लगाना चाहिए

तेल का दीपक जब ही जलाया जाता है जब कोई व्यक्ति किसी मन्नत के लिए पूजा पाठ कर रहा है। जिस व्यक्ति को शनि ग्रह शांत करना है वह व्यक्ति तिल के तेल का दीपक शनिवार और मंगलवार के दिन जलाए। इसके साथ ही भगवान विष्णु की पूजा के समय अगर कोई मन्नत मांगना चाहते हैं तब उस पूजा में भी तिल के तेल का दीपक जलाया जा सकता है। शनिदेव को प्रसन्न करने के लिए मुख्य रूप से सरसों का तेल इस्तेमाल किया जाता है जबकि हनुमान जी को प्रसन्न करने के लिए चमेली का तेल किया जाता है। हिंदू धर्म ग्रंथों में है कि भगवान विष्णु को तिल का तेल बहुत ही प्रिय है। तिल के तेल को जलाने से घर में अकाल मृत्यु का दोष दूर होता है।

समापन

इस प्राचीन परंपरा और धार्मिक महत्व के साथ, दीपक जलाना घर को शुद्ध और पौराणिक ऊर्जा से भर देता है। यह एक सुंदर और महत्वपूर्ण आध्यात्मिक अद्भुति है जो हर किसी के घर में होनी चाहिए।