एकादशी व्रत में क्या खाएं: सात्विक और स्वादिष्ट भोजन

एकादशी व्रत का मतलब क्या है, एकादशी व्रत के महत्वपूर्ण नियम, और एकादशी व्रत के फायदे के बारे में जानने के लिए यहाँ पढ़ें। ज्यादातर लोग एकादशी व्रत के दौरान सात्विक भोजन करते हैं। सात्विक आहार का मतलब क्या है और शाकाहारी भोजन, द्रव्याहारी भोजन, और फलाहारी भोजन के विकल्प क्या हैं, इसके बारे में जानने के लिए पढ़ें। इनके साथ ही, स्वादिष्ट भोजन विकल्प जैसे कद्दू की पूरी, मेवे और दही वाली स्वादिष्ट कटलेट्स, मसालेदार सबुदाना खिचड़ी, और बहुत कुछ जानने के लिए आगे पढ़ें। तो चलिए, सात्विक और स्वादिष्ट भोजन सुझावों के लिए अगले पाठ में बढ़ते हैं।

एकादशी व्रत: एक अद्भुत परंपरा

क्या आपने कभी सोचा है कि व्रत रखना कितना अद्भुत हो सकता है? हाँ, बिल्कुल सही सुना है, व्रत रखने की एकादशी परंपरा भी बेहद अद्भुत है। एकादशी व्रत सभी पौराणिक और आध्यात्मिक कथाओं में गहरी रूप से संपन्न है और खास तौर पर हिंदू धर्म में महत्वपूर्ण स्थान रखती है। चलिए हम जानते हैं इस व्रत के कुछ महत्वपूर्ण नियमों और फायदों के बारे में।

एकादशी व्रत का मतलब क्या है

एकादशी व्रत दो शब्दों से मिलकर बना है – ‘एक’ और ‘दश’। इसका अर्थ होता है, जो ग्यारहवें तारीखी होता है। ये व्रत हर हिन्दू माह में व्यापक रूप से मनाया जाता है। इस व्रत के महत्वपूर्ण नियम और विधि भी होती है, जो इसे और भी रोचक बनाती है।

एकादशी व्रत के महत्वपूर्ण नियम

एकादशी व्रत में कुछ विशेष नियम होते हैं, जिनका पालन करना अनिवार्य होता है। मुख्य नियमों में से कुछ निम्नानुसार हैं:

  • एकादशी व्रत में सात्विक भोजन करना चाहिए, जैसे कि शाकाहारी और द्रव्याहारी पदार्थ।
  • मांस, मदिरा या किसी अन्य नशीले पदार्थ का सेवन व्रत का निषेध होता है।
  • प्रत्येक वस्तु को प्रभु को भोग लगाकर और तुलसी दल छोड़कर ग्रहण करना चाहिए।

एकादशी व्रत के फायदे

एकादशी व्रत का पालन करने से आपको शारीरिक और मानसिक फायदे हो सकते हैं। इसके फायदों में से कुछ निम्नानुसार हैं:

  • व्रत करने से आपकी इंद्रियाँ शुद्ध होती हैं और मन शांत होता है।
  • यह व्रत दैवीय ऊर्जा को ऊँचा करने में मदद करता है।
  • यह व्रत आपको संयम, मनोबल और धैर्य की प्राप्ति कराता है।

एकादशी व्रत में क्या खाएं

एकादशी व्रत के दौरान आपको सात्विक और प्राणिक भोजन का सेवन करना चाहिए। इससे आपके शरीर को संतुलित पोषण मिलेगा और आप ताजगी और स्वास्थ्य भी महसूस करेंगे।

  • सात्विक आहार का मतलब होता है कि जिन खाद्य पदार्थों में शुद्धता, धार्मिकता और प्राकृतिकता होती है, वे सात्विक आहार माने जाते हैं। इसमें शाकाहारी और द्रव्याहारी भोजन शामिल होता है।
  • शाकाहारी भोजन से आप उच्च पथरी, मधुमेह और हृदय संबंधी बीमारियों से बच सकते हैं। केवल फल खाने के लिए आप संख्या में बावजूद समय बचा सकते हैं।
  • द्रव्याहारी भोजन से आपके शरीर को पोषण और प्राणिकता मिलती है। इसमें अनाज, दाल, विटामिन, खाने का सामग्री आती है।

सात्विक भोजन के अलावा आप एकादशी व्रत में स्वादिष्ट भोजन भी खा सकते हैं। यह व्रत बोरींग नहीं होता, संगीत के बिना जैसा आम खाना होता है। वजन में बढ़ोतरी का डर नहीं होता है। यदि आप भी खाने के आनंद का ठिकाना धुंध रहे हैं, तो यहां कुछ स्वादिष्ट विकल्प बताए जाते हैं, जो आपको एकादशी का व्रत करने के वक्त अमेजिंग बना सकते हैं। तो चलिए, इसे इंजॉय करते हैं!

  • कद्दू की पूरी: आदतन हम कद्दू को केवल हलवे या रवा के हलवे के लिए ही इस्तेमाल करते हैं, लेकिन एकादशी पर यह एक उत्कृष्ट और स्वादिष्ट विकल्प हो सकती है।
  • मेवे और दही वाली स्वादिष्ट कटलेट्स: कटलेट्स का मज़ा आपने नाम सुनकर किया है, लेकिन क्या आपने पहले कभी मेवे और दही के साथ कटलेट्स खाएं हैं? वादा है, या स्वादिष्ट टेस्ट में ये कटलेट्स आपको झंझट में फेंकने को मजबूर कर सकती हैं।
  • मसालेदार सबुदाना खिचड़ी: सबुदाना खिचड़ी का तो आपने जरूर नाम सुना होगा। लेकिन क्या आपने कभी मसालेदार तौर पर इसे खाया है? अगर नहीं, तो यह एक अद्वितीय स्वाद में तैयार हो सकती है।
  • क्रिस्पी और टेस्टी सिंघाड़ा आलू टिक्की: आपने सिंघाड़ी के आटे से बनाई गई रोटी तो खाई ही होगी, लेकिन क्या आपने कभी सिंघाड़ा आलू टिक्की खाई है? वो भी क्रिस्पी और मज़ेदार टेस्ट में?
  • तिल और गुड़ के स्नैक्स: तिल-गुड़ के स्नैक्स आपको स्वाद में उम्दा विकल्प प्रदान कर सकते हैं। तिल और गुड़ की मीठी बदाम कटलेट्स, पिस्ता ट्रिफल्स या क्रिस्पी तिल की हरीमिर्चियाँ, क्या पसंद है?
  • सात्विक फल रायता: फलों को अपनी डालीयों में बदलकर एकादशी के व्रत को भी मजेदार बना सकते हैं। फलों को हरे धनिये, तीखा हरी मिर्च और प्याज़ के साथ मिलाएं और ठंडे दही के साथ सार्वजनिक करें।

यहां कुछ ऐसी अद्भुत स्वादिष्ट विकल्प हैं, जो एकादशी व्रत में आपको पूरी तरह से मनोरंजक और संतुष्ट कर सकते हैं। इस व्रत का अनुभव करके आप देखेंगे कि व्रत रखना कितना मज़ेदार हो सकता है। तो चलिए, एकादशी के व्रत में सात्विक और स्वादिष्ट भोजन का आनंद लीजिए और आध्यात्मिक रूप से ऊँचाईयों को छू लीजिए।

सात्विक भोजन: एकादशी व्रत के लिए पर्याप्त आहार

व्रत रखने का मतलब है सात्विक भोजन का सेवन करना। यह व्रत शाकाहारी, द्रव्याहारी और फलाहारी भोजन के तहत किया जाता है। जो आपको खुद को शांत और स्वस्थ रखने में मदद करता है।

सात्विक आहार का मतलब होता है जो आपके शरीर के और मस्तिष्क के लिए ही अच्छा हो । इसमें विभिन्न प्रकार के अन्न, फल, ताजे सब्जियां, खीर, दही, धनिये के पत्ते, मखाने, खजूर, अंजीर, घी, शहद और नट्स जैसी चीजें आती हैं। इन्हें भोजन पर प्राथमिकता देकर आप एकादशी व्रत का पालन कर सकते हैं।

शाकाहारी भोजन एक बहुत ही अच्छा विकल्प है आपके एकादशी व्रत के लिए। इसमें आप फल, सब्जियां, दही, मिल्कशेक और ठंडे ठंडे पैक मेवे खा सकते हैं। ये आपको प्राकृतिक ऊर्जा देते हैं और आपको वजन घटाने में मदद करते हैं।

द्रव्याहारी भोजन में आपको दूध, मूंग दाल, घी, मक्खन, लस्सी, घी और इलायची वाली चाय, मेवे और नट्स, सूखे फल और संतरा जूस जैसे चीजें खानी चाहिए। इनमें प्रोटीन और ऊर्जा की अच्छी मात्रा होती है। इससे आपका शरीर स्वस्थ और मुस्कान वाला रहेगा।

फलाहारी भोजन में आपको फल, सूखे फल, फ्रूट दही, फलों की चाट, फल सलाद, शकरकंदी की चाट और फलों से बनी मीठी चीजें खानी चाहिए। इनमें पोषक तत्व व विटामिन्स की अच्छी मात्रा होती है और इससे आप ताजगी और स्वाद दोनों का आनंद उठा सकते हैं।

इसलिए, एकादशी व्रत के दौरान जब आपको भूख लगे तो सात्विक आहार खा लें। आपके पास शाकाहारी, द्रव्याहारी और फलाहारी भोजन के अनेक विकल्प हैं। इन्हें आप आसानी से घर पर बना सकते हैं और अपनी रुचि के अनुसार अपने व्रत के दिनों को मजेदार बना सकते हैं। इस एकादशी व्रत पर स्वस्थ और सात्विक भोजन करके आपका व्रत सफल होगा।

एकादशी के व्रत में स्वाद बढ़ाने के आसान तरीके

अगर आपकी जीभ भी किन्नरों की तरह व्रत की वजह से रोने लगी है, तो चिंता न करें! हम आपके लिए लेकर आए हैं कुछ स्वादिष्ट भोजन विकल्प जो एकादशी के व्रत में स्वाद बढ़ाने के लिए आपकी बोलती जीभ को खुश कर देंगे। तो छोड़िए चिंता और आइए जानें इन स्वादिष्ट विकल्पों के बारे में:

1. कद्दू की पूरी:
कद्दू आपकी जीभ को सदमे में डाल सकता है! इस व्रत में कद्दू की पूरी बनाकर खाएं। सूखे मेवों के साथ सर्विंद्रिय सुख छाएंगी और आपकी जीभ बाहर निकल जाएगी।

2. मेवे और दही वाली स्वादिष्ट कटलेट्स:
व्रत में दही नहीं खा सकते? कोई बात नहीं! खाना खाने के लिए बनाएं मेवों और दही के साथ मसालेदार कटलेट्स। स्वाद तो दुगुना होगा ही, पेट भी भर जाएगा।

3. मसालेदार सबुदाना खिचड़ी:
सबुदाना खिचड़ी की खुशबू से रुहानी खुशी मिलती है। इस व्रत में अपनी जीभ को खुदाई दें और मसालेदार सबुदाना खिचड़ी का स्वाद लें। यह स्वादिष्ट व्यंजन आपके व्रत को खास बना देगा।

4. क्रिस्पी और टेस्टी सिंघाड़ा आलू टिक्की:
आप आलू के पकोड़े के बिना व्रत नहीं रख सकते? कोई बात नहीं! खाना खाने का और ध्यान रखने का तरीका क्या है, वो है – सिंघाड़े की आलू टिक्की! क्रिस्पी बाहर, भीतर मसालेदार – गर्मागर्म सिंघाड़ा आलू टिक्की स्वाद के साथ आपका पेट भी भर देगी।

5. तिल और गुड़ के स्नैक्स:
तिल और गुड़ या सेसम सीड, आपकी जीभ का तैयारी कर रही है। व्रत के दिन ये मसालेदार स्नैक्स आपके पेट को बताएंगे “ओह हो हो”, क्योंकि पूरा स्वाद बहुत ज्यादा होगा।

6. सात्विक फल रायता:
हम सभी में अलग-अलग पसंद होता है रायता। तो व्रत में भी अपनी पसंद अनुसार रायता बनाएं। स्वादिष्ट फलों से बना बिंदास रायता, अपने व्रत को और भी रंगीन बना देगा।

तो चिंता न करें और इन स्वादिष्ट विकल्पों का आनंद उठाएं। तब तक, आपकी जीभ को लाल रंग की बर्फ के साथ ठंड लगती रहने दें। अच्छे आहार से ही आपकी आत्मा और आपका पेट दोनों खुश रहेंगे।।

सबसे अच्छा भोजन: मनोरंजक, स्वादिष्ट और सात्विक

ताजगी और स्वाद से भरपूर फल सलाद

एकादशी व्रत के दिन, अपने भोज में एक स्वादिष्ट तथा पौष्टिक फल सलाद को शामिल करें। ताजगी और स्वाद से भरपूर फलों को मिश्रण में मिलाकर बनाएं। सेव, अंगूर, संतरा, आम, आन्नास, केला, पपीता, नाशपाती, अंजीर, खुबानी, तरबूज आदि को आप अपने फल सलाद में शामिल कर सकते हैं। फलों की ताजगी और क्रिस्पी टेक्स्चर, उनके मीठे व सूखे स्वाद ने आपके व्रत के दिन को और ख़ास बना देते हैं। यह एक भिन्न और रोचक आहार है जिसमें स्वादिष्टता और सेहत का ध्यान रखा जाता है।

परंपरागत भारतीय खाना: राजमा चावल

व्रत के दिन अगर आपको थोड़ा सा खाना की याद आ रही हो तो आप कच्चे केसर के रंग के साथ बने बासमती चावल और प्याज के साथ राजमा मसाला बना सकते हैं। यह भारतीय खाना आपके व्रत के दिन की भूख को शांत करेगा और उत्साह बढ़ाएगा। राजमा चावल के साथ अगर आप अचार या धनिया की चटनी मिलाएंगे तो मिजाज़ और व्रतधारियों का स्वाद और भी बढ़ेगा।

कंद की कटलेट्स:

एकादशी व्रत के दिन अपने भोज में कटलेट खाने की इच्छा कर रही हो तो आप कंद से बनी कटलेट्स को आजमा सकती हो। भूने हुए और हरे मसालों से लदे हुए कटलेट्स स्वादिष्ट और सुपोषण से भरपूर होते हैं। इसे तरकारी ऐपेेरटिफ या चटपटा मुद्दा भी कहा जा सकता है। यह आपके व्रत को स्वादिष्टता और आनंदमयी बना देगा।

हरी मिर्च और हरी मसाले वाले आलू:

व्रत के दिन अपनी भूख को संतुष्ट करने के लिए आप हरी मिर्च और हरी मसाले वाले आलू बना सकते हैं। इस व्यंजन को बनाना बहुत ही आसान होता है और इसका स्वाद उमांग और तेज़पूर्ण होता है। आप आवश्यक सामग्री को तेल में पकाकर इसे बना सकते हैं और व्रत के दिन की खाने की इच्छाएं पूरी कर सकते हैं।

आलू गोभी मसाला:

यदि आप व्रत के दिन थोड़ा भारपूर कुछ खाना पसंद कर रही हो तो आप गोभी के साथ बना आलू मसाला आजमा सकती हो। आप इसे घर पर आसानी से बना सकती हो और इसे खाने में अपनी भूख को खोशगवार बना सकती हो। इस दिशा में यह भारतीय विभाजनीय खाना आपको व्रत की शुद्धता और रोचकता का एक अद्वितीय संयोग प्रदान करेगा।

फारसी मसालेदार सब्ज़ी:

एकादशी के दिन वेजिटेबल्स से भरपूर और पौष्टिक खाना चाहते हो तो फारसी मसालेदार सब्जी को आजमा सकती हो। इसमें मसालों का अद्वितीय मिलावट होता है जो आपके व्रत के दिन को बहुत ही मजेदार और मजेदार बना देता है। इसे चावल या रोटी के साथ परोस सकती हो और व्रत की भूख को खोशगवारी से पूरा कर सकती हो।

मिठाई के लिए बादाम रूचिकर:

जब बात व्रत के दिन की मिठाई की आती है, तो आप बादाम रूचिकर का सेवन कर सकती हो। इसे दूध में पकाकर आप इसे तैयार कर सकती हो और व्रत के दिन की खाने के अंत में मीठा मजेदार स्वाद प्रदान कर सकती हो। बादाम का स्वाद, चटपटी मिठास और तैयारी की आसानता ने इसे व्रत के दिन की महकदार मिठाई बना दिया है।

हाय भूख! आप जिस व्रतों की चिकेंंग कर रही हो, उन्हें और भी रोचक और मजेदार बनाने का तरीका यहीं पर कर रखा जा चुका है। एकादशी व्रत के दिन भी खाने का मजा है भारपूर, बस स्वाद और सात्विकता साथ रख लो। इन स्वादिष्ट और सेहतमंद भोजन विकल्पों को अपनाने से आपके व्रत का अनुभव और भी खास हो जायेगा।So, चलो! चक्कर लगाते हैं और इनको आप अपना कर व्रतवर्जियों के बील में छू लो।

समापन

एकादशी व्रत के अनुसार भोजन करने के नियमों का पालन करके आप अद्भुत लाभ प्राप्त कर सकते हैं। यह व्रत आपको विचारशक्ति और सात्विकता प्रदान करता है। इस व्रत में सात्विक और स्वादिष्ट भोजन कर सकते हैं जो आपके शरीर और मन को सुरक्षित रखेगा। खाने के लिए ताजगी और स्वाद वाले फल, परंपरागत भारतीय खाना और रसीली मिठाई विकल्प रखें। एकादशी व्रत में साथ रह रसोईयों को बड़ा मौका मिलता है अपनी पकवानों का जादू दिखाने का। यह व्रत भोजन को संतुलित करने के लिए अवसर प्रदान करता है।

रात को सोते समय 4 मखाने खाने से पैरों तले जमीन खिसक जाएगी इतने फायदे के सोचेंगे भी नही

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *