भीष्म के सिर्फ 5 तीर कर सकते थे पांडवो का अंत?

नमस्कार दोस्तों और हम समय-समय पर आपके सामने आते हैं। आज हम लेकर आए हैं। विश्व के पांच सोने के 3 दिन से हो सकता था। पांडवों का पर जानेंगे। श्री कृष्ण ने कैसे अपनी लीला से पांडवों के प्राण बचाए महाभारत के युद्ध को धर्म युद्ध के नाम से भी जाना जाता है। एक ऐसा धर्म युद्ध जिसमें लक्ष्य केवल राज्य जीतना ही नहीं अपना अधिकार अपने प्रियजनों से वापस लेना भी था। साथ ही थोड़ा पति की भरी सभा में हुए अपमान के लिए न्याय युद्ध बहुत जरूरी था।

महाभारत के युद्ध को इतिहास के सबसे बड़े रक्तरंजित युद्धों में से एक माना जाता है। इस युद्ध में कौरव और पांडव आमने-सामने खड़े, लेकिन एक ही होता है ऐसा भी था। भाग ही नहीं लेना चाहता था लेकिन राजधर्म निभाने के लिए उन्हें कौरवों की तरफ से युद्ध में हिस्सा लेना पड़ा। विश्व पितामह को इच्छा मृत्यु का वरदान प्राप्त था। इस वजह से वह युद्ध में सबसे शक्तिशाली योद्धा गौरव इसलिए विश्व को हमेशा से अपने खेमे में शामिल करना चाहते थे।

लेकिन बीच में की अंतरात्मा यह बात जानती थी कि पांडव न्याय की स्थापना के लिए युद्ध कर रहे हैं, जबकि कौरव का साथ देना स्वयं भी मन में इसी विचार के साथ बीच में अपनी पूरी शक्ति का प्रदर्शन ही नहीं किया। दुर्योधन को भीष्म पर शंका होने लगी कि शायद अपने प्रेम के कारण बीच में पांडवों के सामने अपनी शक्ति का प्रदर्शन नहीं कर रहे हैं। जब कौरवों की सेना पांडवों से युद्ध हार रही थी तब दुर्योधन भीष्म पितामह के पास गया और अपना रोष प्रकट करते हुए विष्णु पिता मां से कहा, आप अपनी पूरी शक्ति से युद्ध नहीं लड़ रहे।

सुनकर भीष्म पितामह को बहुत गुस्सा आया। उन्होंने तुरंत 5 सोने के तीर लिए और कुछ मंत्र पढ़े। मंत्र पढ़ने के बाद उन्होंने दुर्योधन से कहा, कल इन 5 दिनों से।वो का अंत कर देंगे। विष्णु की बात सुनकर भी दुर्योधन को भीष्म पितामह पर विश्वास नहीं हुआ और उसने तीन ले लिए और कहा कि वह कल सुबह इन तीनों को वापस लौटा देगा। जब श्रीकृष्ण को विश्व के पांच पीरों के बारे में पता चला तो उन्होंने अर्जुन को वह घटना याद दिलाई जिसमें अर्जुन दुर्योधन के प्रांतिक गंधर्व से बचाए थे।

श्रीकृष्ण की बात मानते हुए अर्जुन ने दुर्योधन के पास जाकर उसे अपना बचपन याद दिलवाया। क्षत्रिय का वचन रखने के लिए दुर्योधन ने भीष्म के वह पांच सोने के तीर अर्जुन को देखिए। इस तरह श्रीकृष्ण की युक्ति दे पांडवों के प्राण बचा लिए उम्मीद करते हैं। दोस्तों यह वीडियो आपको पसंद आया होगा। लाइक जरूर करें और हमारा चैनल सब्सक्राइब करें ताकि आने वाली सब वीडियोस भी आप देख शुक्रिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *